Sidebar Logo ×
होम /बिहार / औरंगाबाद

बिना परमिशन ड्रोन उड़ाना पड़ सकता है भारी! जान लीजिए ये नियम

दाउदनगर का वायरल ड्रोन वाला वीडियो क्या नियमों का उल्लंघन है? इस विषय को पूरा समझने के लिए इस रिपोर्ट को पूरा पढ़िए और दीजिये अपनी राय

सत्यम मिश्रा

सत्यम मिश्रा

औरंगाबाद, May 29, 2021 (अपडेटेड May 29, 2021 8:48 PM बजे)

स्टोरी हाइलाइट्स

भारत में ड्रोन उड़ाने के लिए UIN और UAOP की जरूरत होती है।

पेलोड के आधार पर भारत में ड्रोन को 5 केटेगरी में रखा गया है।

सोशल मीडिया और लोकल समाचार पत्रों में आजकल दाउदनगर का एक वीडियो खूब चर्चा में है। दाउदनगर के किसी हर्षित पल्लव ने इसे अपने फेसबुक प्रोफाइल पर पोस्ट किया था। इस वायरल वीडियो में दाउदनगर के अलग अलग लोकेशन का एरियल व्यू तथाकथित नैनो ड्रोन की मदद से रिकॉर्ड किया गया था।

जब हमने इस वीडियो की पड़ताल की तो पता चला कि इस ड्रोन शॉट को लेते समय कुछ नियमों का पालन नहीं किया गया था। भारत में इसे अपराध की श्रेणी में रखा गया है जिसपर 10,000 से 25,000 रुपये तक फाइन का प्रावधान है।

ड्रोन उड़ाने संबंधी नियमों को जानने से पहले आपको ड्रोन के बारे में जानकारी होनी आवश्यक है।

क्या है ड्रोन (Drone) या RPAS?

ड्रोन या RPAS (Remotely Piloted Aircraft System) एक मानवरहित एयरक्राफ्ट है जिसे किसी रिमोट या कंट्रोल सेंटर से कमांड भेज कर उड़ाया या ऑपरेट किया जाता है। भारत में इसे वजन के आधार पर पांच कटेगरी में रखा गया है-

  1. नैनो (Nano) - 250 ग्राम या कम वजन
  2. माइक्रो (Micro) - 250 ग्राम से 2 किलोग्राम
  3. स्मॉल (Small) - 2 किलोग्राम से 25 किलोग्राम
  4. मीडियम (Medium) - 25 किलोग्राम से 150 किलोग्राम
  5. लार्ज (Large) - 150 किलोग्राम से अधिक

यहां ध्यान देने की बात है कि इस वजन में payload अर्थात कैमरा और दूसरे उपकरण का भी वजन शामिल है।


इन अलग अलग तरह के ड्रोन को इस्तेमाल करने के लिए DGCA की अलग अलग गाइडलाइंस हैं।

ड्रोन उड़ाने का क्या है गाइडलाइंस?

भारत में एयरस्पेस को दो भागों में वर्गीकृत किया गया है। पहला कंट्रोल्ड और दूसरा अनकंट्रोलड एयरस्पेस। मोटा मोटा समझे तो जहां हवाई जहाज की सेवा है (जहां एयर ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम - ATC हो) वो कंट्रोल्ड जैसे कि पटना एयरपोर्ट और आसपास का क्षेत्र और जहां ATC ना हो वो अनकंट्रोलड।

नैनो ड्रोन को छोड़कर बाकी सभी टाइप के ड्रोन के साथ आपको UIN (Unique Identification Number) जो DGCA जारी करती है प्राप्त करना होगा। आप इसे गाड़ी के नंबर प्लेट की तरह समझ सकते हैं। साथ ही साथ नैनो ड्रोन के अलावा इसे ऑपरेट करने के लिए आपके पास भी लाइसेंस होना जरूरी है जिसे UAOP (Unmanned Aircraft Operating Permit) कहा जाता है। UAOP भी DCGA जारी करती है जिसकी वैद्यता अमूमन 5 साल होती है। इसके बारे में विस्तार से फिर कभी।

कंट्रोल्ड एयरस्पेस में किसी भी प्रकार की ड्रोन को उड़ाने से पहले DGCA की परमिशन लेनी होती है।

लेकिन हमारा दाउदनगर क्षेत्र अनकंट्रोलड एयरस्पेस है तो इसके विषय में भी नियम को जान लीजिए। अनकंट्रोलड एयरस्पेस में नैनो ड्रोन को छोड़कर बाकी सभी तरह के ड्रोन उड़ाने से पहले फ्लाइट प्लान की जानकारी लोकल थाने में देनी होती है। माइक्रो ड्रोन को उड़ाने की अधिकतम ऊंचाई 200 फ़ीट से ज्यादा नहीं होनी चाहिए वहीं नैनो ड्रोन के लिए ये सीमा 15 मीटर (लगभग 50 फ़ीट) है। 50 फ़ीट मतलब एक 5 मंजिले मकान की ऊंचाई के आसपास।


Small, Medium और Large ड्रोन को उड़ाने के लिए और भी कईं नियम हैं जिनकी चर्चा हम यहां नहीं कर रहे हैं।

वायरल वीडियो की पड़ताल में क्या मिला?

वायरल वीडियो में दाउदनगर के बहुत सारे लोकेशन का एरियल व्यू लिया गया था। इन्हीं व्यूज़ को देखते हुए हमें बहुत सारे ऐसे बिल्डिंग दिखाई दिए जो 15 मीटर से ज्यादा ऊंचे थे। ड्रोन द्वारा ली गयी एरियल शॉट में वो ऊंची इमारतें भी काफी छोटी दिखाई दे रही थी। इससे ये साबित होता है कि इस ड्रोन को उन सभी बिल्डिंग से काफी ऊपर उड़ाया जा रहा था जो नियमों का सरासर उल्लंघन है।

हालांकि इस वीडियो को शूट करने से पहले प्रशासन की अनुमति ली गयी थी या नहीं फिलहाल इसका पता नहीं चल पाया है।


इसके अलावा ये सभी वीडिओज़ किस ड्रोन से ली गईं हैं इसका भी कोई जिक्र किसी मीडिया रिपोर्ट्स में नहीं किया गया है। 

इस मुद्दे पर क्या है आपकी राय? कमेंट में जरूर बताइये। या आप अपनी राय हमारे फेसबुक पेज पर भी शेयर कर सकते हैं।

हमारी बेबाक़ पत्रकारिता को सपोर्ट करने के लिए हमें यूट्यूब पर सब्सक्राइब करिये और हमारे फेसबुक पेज को फॉलो करिये।

*यहां दी गयी सभी जानकारी DGCA के डिजिटल स्काई पोर्टल से ली गयी है। कृपया किसी भी विवाद की स्थिति में हमसे संपर्क करने के लिए नीचे दिए 'Contact Us' पेज पर जाइये।

Source: Aurangabad Now

औरंगाबाद, बिहार की सभी लेटेस्ट खबरों और विडियोज को देखने के लिए लाइक करिए हमारा फेसबुक पेज , आप हमें Google News पर भी फॉलो कर सकते हैं।
Subscribe Telegram Channel

Loading Comments