Sidebar Logo ×
होम /बिहार / औरंगाबाद

एक्शन में है औरंगाबाद पुलिस! सिर्फ एक सप्ताह में ही पकड़ा गया लगभग 13600 लीटर अवैध शराब

औरंगाबाद पुलिस आजकल एक्शन में नज़र आ रही है और इस वजह से शराब माफियाओं के बीच हड़कंप मचा हुआ है। पढिये ये खास रिपोर्ट

सत्यम मिश्रा

सत्यम मिश्रा

औरंगाबाद, Jul 06, 2021 (अपडेटेड Jul 07, 2021 4:39 PM बजे)

स्टोरी हाइलाइट्स

मद्य निषेध कानून के तहत बिहार में बैन है शराब की बिक्री

सिर्फ 1 सप्ताह में ही पकड़ा गया है लगभग 13 हजार 600 लीटर दारू

औरंगाबाद पुलिस आजकल एक्शन मोड में दिखाई दे रही है। पड़ोसी राज्यों से तस्करी के जरिये जिले में लायी जा रही अवैध शराब पर लगातार छापेमारी की जा रही है।


आपको यह जानकर हैरानी होगा कि औरंगाबाद पुलिस के द्वारा सिर्फ 1 सप्ताह में ही पूरे जिले में लगभग 13 हजार 600 लीटर अवैध शराब को जब्त किया गया है (यह डाटा मीडिया रिपोर्ट्स के आधार पर तय किया गया है, वास्तविक डाटा और अधिक हो सकता है)। पुलिस के द्वारा ताबड़तोड़ किये जा रहे रेड और जांच की वजह से शराब माफियाओं में हड़कंप मचा हुआ है।

सिर्फ 1 सप्ताह में ही बरामद हुआ है 13 हजार 600 लीटर अवैध शराब


औरंगाबाद जिला का बॉर्डर झारखंड (झारखंड में शराबबंदी नहीं है) की सीमा से सटा से हुआ है जिसकी वजह से अक्सर यहां शराब माफिया दारू की तस्करी करते हैं।

  • 1 जुलाई को रफीगंज में 10 लीटर शराब बरामद हुआ था। इसी दिन 21 लीटर दारू के साथ दाउदनगर में भी एक बाइक मिला था जिसके मालिक की गिरफ्तारी कल हुई है।
  • 2 जुलाई को नवीनगर में 378 लीटर दारू के साथ एक ऑटो को पकड़ा गया था।
  • 3 जुलाई को अम्बा में एक दुकान से 27+35 लीटर दारू बरामद किया गया था वहीं NTPC खैरा पुलिस के द्वारा भी 22 लीटर दारू बरामद किया गया था। इसी दिन मदनपुर में भी एक मारुति सुजुकी कार से 140 लीटर अवैध शराब की तस्करी करते हुए लोगों को पकड़ा गया था।
  • रामाबांध बस स्टैंड के पास एक ट्रक से 5250 लीटर शराब बनाने वाला स्प्रिट 4 जुलाई को पुलिस के द्वारा पकड़ा गया था।
  • 5 जुलाई को मदनपुर में एक हाइवा से 3500 लीटर, नवीनगर में एक ऑटो से 300 लीटर, देव में वैगन आर कार से 35 पेटी अवैध शराब जब्त किया गया था।
  • कल (6 जुलाई को) मदनपुर में एक सीमेंट वाले ट्रक से 2730 लीटर, दाउदनगर में टाटा सूमो गाड़ी से 433 लीटर और कर्मा रोड में एक दुकान से 18.5 लीटर अवैध शराब जब्त किया गया था। इसी दिन सुन्दरगंज पुल के पास भी 699 लीटर शराब पकड़ा गया था।


इसके अलावा हमारी जांबाज औरंगाबाद पुलिस ने अन्य जगहों से भी शराब की तस्करी करते हुए कईं लोगों को पकड़ा है जिसका जिक्र मीडिया रिपोर्ट्स में नहीं किया गया है।

बिहार में दारुबन्दी के लिए हैं काफी कड़े कानून

बिहार मद्यनिषेध और उत्पाद (संशोधन) अधिनियम, 2018 के तहत पूरे बिहार राज्य में किसी मादक द्रव्य, शराब या भांग का विनिर्माण, उसका क्रय, विक्रय, वितरण, संग्रहण, भंडारण, बोतलबंद, आयात, निर्यात, परिवहन, खेती आदि पर रोग लगाई गई है। पहली बार पकड़े जाने पर 5 साल कारावास और 1 लाख का जुर्माना और दूसरी बार पकड़े जाने पर 10 साल की जेल और 5 लाख रुपये तक का जुर्माने का प्रावधान किया गया है। इतने कड़े कानून के बावजूद भी बिहार में शराब का कारोबार धड़ल्ले से जारी है।

दारुबन्दी को कड़ाई से लागू करने के लिए चलाना होगा और सघन अभियान


इतनी मात्रा में शराब बरामद होने और कड़े कानून के बाद भी लोग तस्करी से बाज नहीं आ रहे। यहाँ कुछ शराब दूसरे राज्यों के बॉर्डर से और कुछ अवैध विनिर्माण फैक्ट्रियों से लाया जाता है। अगर पुलिस और सघनता से जांच कर तो इनके नेटवर्क का भंडाफोड़ हो सकता है।

आपको ये खबर कैसा लगा? इससे संबंधित विचार, सुझाव या शिकायत आप नीचे कमेंट बॉक्स या हमारे सोशल मीडिया पेज पर दे सकते हैं।

Source: Aurangabad Now

औरंगाबाद, बिहार की सभी लेटेस्ट खबरों और विडियोज को देखने के लिए लाइक करिए हमारा फेसबुक पेज , आप हमें Google News पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Popular Search:

Subscribe Telegram Channel

Loading Comments