Sidebar Logo ×
होम / देश

क्या रेमेडीसीवीर के बाद अब Amphotericin B इंजेक्शन की मांग बढ़ने वाली है?

देश में लगातार बढ़ते #ब्लैकफंगस के मामलों ने सरकार को परेशान करके रखा हुआ है। अब तक लगभग 5000 नए मामले रिपोर्ट हुए हैं और इस वजह से Amphotericin B की मांग में तेजी आई है।

सत्यम मिश्रा

सत्यम मिश्रा

पटना, May 22, 2021 (अपडेटेड May 22, 2021 11:04 PM बजे)

स्टोरी हाइलाइट्स

ब्लैक फंगस की इलाज के लिए इस्तेमाल होता है Amphotericin B इंजेक्शन

कोरोना से ठीक हुए मरीजों में है ब्लैक फंगस का ज्यादा खतरा

ब्लैक फंगस से म्यूकोर्मिकोसिस नाम की बीमारी होती है जिससे मृत्यु दर लगभग 50 फीसदी है।

एम्फोटेरिसिन (Amphotericin) का इंजेक्शन ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए जीवनरक्षक साबित हो रहा है। ये एक एंटी-फंगल इंजेक्शन है, जो शरीर में फंगस की ग्रोथ को रोक देता है। इस इंजेक्शन से संक्रमण बढ़ने का खतरा खत्म हो जाता है। ये इंजेक्शन मरीज को रोजाना लगाने की जरूरत पड़ती है और 15-20 दिन तक इस इंजेक्शन की डोज देने पड़ती है लेकिन अब इस इंजेक्शन का मिलना मुश्किल होता जा रहा है।

अगर इस इंजेक्शन को देने में देरी हो गयी और संक्रमण आंखों तक चला गया तो मरीज की आंख भी निकालनी पड़ सकती है या विषम केस में जान भी जा सकती है।

ऑनलाइन स्टोर्स पर भी है आउट ऑफ स्टॉक


इस इंजेक्शन की कमी का आलम आप इसी से लगा सकते हैं कि मेजर दवा डिलीवरी एप्प जैसे 1mg, फार्मइजी आदि पर भी ये उपलब्ध नहीं है।



चूंकि पहले पूरे साल में लगभग 1000 केस तक आने वाली इस बीमारी के लिए कंपनियां भी अपना उत्पादन सीमित रखती थीं लेकिन अब इसकी मांग काफी बढ़ गयी है।

सरकार कैसे कर रही है इस मुद्दे को हैंडल?

सरकार ने आज जोर देकर कहा कि म्यूकोर्मिकोसिस के इलाज में इस्तेमाल होने वाले एम्फोटेरिसिन-बी की कमी को जल्द ही दूर कर लिया जाएगा। रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि तीन दिनों के भीतर, मौजूदा छह फार्मा कंपनियों के अलावा, पांच और फार्मा कंपनियों को भारत में एम्फोटेरिसिन-बी के उत्पादन के लिए नई दवा स्वीकृति मिली है। 


उन्होंने कहा कि मौजूदा फार्मा कंपनियों ने पहले ही उत्पादन बढ़ाना शुरू कर दिया है। मंत्री ने बताया कि भारतीय कंपनियों ने एम्फोटेरिसिन-बी की छह लाख शीशियों के आयात के ऑर्डर भी दे दिए हैं।

इस मुद्दे पर आप अपनी राय नीचे कमेंट बॉक्स में या हमारे फेसबुक पेज पर दे सकते हैं!

Source: Aurangabad Now

औरंगाबाद, बिहार की सभी लेटेस्ट खबरों और विडियोज को देखने के लिए लाइक करिए हमारा फेसबुक पेज , आप हमें Google News पर भी फॉलो कर सकते हैं।
Subscribe Telegram Channel

Loading Comments